Kesariya Balam

Kesariya Balam | केसरिया बालम

Kesariya Balam You Tube Video

राजस्थान के सुनहरी रेतीले टीलों के साथ-साथ राजपूताना संस्कृति, बलिदान व प्रेम को परिभाषित करता अति प्रशंसनीय लोक गीत केसरिया बालम निश्चित ही रेगिस्तानी थार के गौरवशाली इतिहास को भली-भांति प्रदर्शित करता है।

देश की आजादी के बाद अधिकतर आयोजनों में अपनी मूल रचना से भिन्न एक निमंत्रण गीत के रूप में प्रयुक्त होने वाले इस गीत का अतीत बहुत गहरा है जो इसे सुनने वालों के मन में राजस्थान व राजपूत योद्धाओं के प्रति सम्मान को न केवल बढ़ाता है बल्कि उस पर गर्व करने को भी प्रेरित करता है।

राजस्थान की प्रसिद्ध लोक गायिका अल्लाह जिलाई बाई द्वारा रचित यह गीत शायद राजस्थान के सबसे लोकप्रिय गीतों में एक है जिसे हर कालखंड में श्रोताओं द्वारा सराहा गया है, अल्लाह जिलाई बाई के गायन की प्रारंभिक शिक्षा उस्ताद हुसैन बख्श खान तथा उसके बाद अछान जी महाराज द्वारा संपन्न हुई थी।

अपने बचपन से ही वह महाराज गंगा सिंह जी के दरबार में गाने लगी थी तथा वहीं पर उन्होंने प्रथम बार अपनी लोकप्रिय कृति केसरिया बालम को प्रस्तुत किया था, ठुमरी, दादरा, मांड व ख्याल जैसी शैलियों में सर्वश्रेष्ठ अल्लाह जिलाई बाई को सन 1982 में भारत सरकार द्वारा देश के सर्वश्रेष्ठ सम्मानों में से एक पदम श्री से सम्मानित किया गया तथा सन 1988 में उन्हें भारतीय लोक संगीत में अपने उत्कृष्ट योगदान के लिए संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया।

‘केसरिया बालम’ लोकगीत के बोल

केसरिया बालम आवोनी पधारो म्हारे देस
नि केसरिया बालम आवोनी सा पधारो म्हारे देस

पधारो म्हारे देस, आओ म्हारे देस नि
केसरिया बालम आओ सा पधारो म्हारे देस

मारू थारे देस में निपूजे तीन रतन – 2
एक ढोलो, दूजी मारवन, तीजो कसूमल रंग

पधारो म्हारे देस, पधारो म्हारे देस नि,
केसरिया बालम, आवोनी पधारो म्हारे देस

केसर सू पग ला धोवती, घरे पधारो जी..
हे केसर सू पग ला धोवती, घरे पधारो जी..

और बढ़ाई क्या करू पल पल वारू जीव
पधारो म्हारे देस, आओ म्हारे देस नि
केसरिया बालम आओ सा पधारो म्हारे देस

आंबा मीठी आमरी,
चोसर मीठी छाछ.
आ..अलाप
नैना मीठी कामरी
रन मीठी तलवार

पधारो म्हारे देस, आओ म्हारे देस नि
केसरिया बालम आवोनी पधारो म्हारे देस
पधारो म्हारे देस, आओ म्हारे देस जी
केसरिया बालम आवोनी पधारो म्हारे देस

शब्द ज्ञान
आंबा मीठी आमरी, (आम से भी मीठी ईमली)
चोसर मीठी छाछ. (सबसे मीठी छाछ)
नैना मीठी कामरी (सुंदर आँखो वाली प्रेमिका)
रन मीठी तलवार (युद्ध में प्रिय तलवार)

‘Kesariya Balam’ Lyrics in English

Kesariya Balam aawo ni padharo mhare des
ni Kesariya Balam aawo sa padharo mhare des

padharo mhare des, aawo mhare des ni
kesariya balam aawo sa padharo mhare des

maru thare des mein nipuje teen ratan..2
ek dholo(Dhola Maru love story), duji marwan (priytamaa),
theejo kasoomal(kasariya) rang

padharo mhare des, padharo mhare des ni,
kesariya balam, aawo ni padharo mhare des

Kesar soo pag la dhovti, ghare padharo ji..
he Kesar soo pag la dhovti, ghare padharo ji..

Aur badhai kya karu pal-2 varugi
padharo mhare des aawo mhare des
ni kesariya balam aawo ni padharo mhare des

aamba meethi aamri
chosar meethi chhachh..
maina meethi kamri
ran meethi talwar

padharo mhare des, aao mhare des ni
kesariya balam aawo ni padharo mhare des

padharo mhare des, aao mhare des ji
Kesariya balam aawo ni padharo mhare des

‘केसरिया बालम’ अन्य संस्करण

केसरिया बालम आवोनी, पधारो म्हारे देश जी |
पियाँ प्यारी रा ढोला, आवोनी, पधारो म्हारे देश |

आवण जावण कह गया, तो कर गया मोल अणेर |
गिणताँ गिणताँ घिस गई, म्हारे आंगलियाँ री रेख ||
केसरिया बालम आवोनी, पधारो म्हारे देश |

साजन साजन मैं करूँ, तो साजन जीवजड़ी |
साजन फूल गुलाब रो, सुंघुँ घडी घडी ||
केसरिया बालम आवोनी, पधारो म्हारे देश |

मारू थारा देश में , निपजे तीन रत्न |
इक ढोला इक मरवण,तीजो कसुमल रंग ||
केसरिया बालम आवोनी, पधारो म्हारे देश |

सुपना तू सोभागियो, उत्तम थारी जात |
सो कोसा साजन बसै, आन मिलै परभात ||
केसरिया बालम आवोनी, पधारो म्हारे देश जी |

Another Version Lyrics in English

Kesariya Balam aawo ni padharo mhare des ji
Piya pyari ra dhola, aawo Ni, Padharo mhare desh…

Aawan jaawan kah gaya, Toh kar gaya mol Ander
Ginta ginta Ghiss gayi, Mhare angliya ri rekh
Kesariya Balam aawo ni padharo mhare des…
Sajan sajan mei karu, toh Sajan Jeevjadi
Sajan phool gulab ro. Sunghu ghadi ghadi
Kesariya Balam aawo ni padharo mhare des…

Maru thara desh me, Nipje teen ratan
Ek dhola, Ek Marvan, Tijo kusumal rang
Kesariya Balam aawo ni padharo mhare des…

Supana tu sobhagiyo, Uttam uhari jaat
Sau kausa sajan basse, Aan mile parbhaat
Kesariya Balam aawo ni padharo mhare des ji…

Kesariya Balam Aao Ni, Padharo Mhare Desh ji
Piya Pyari Ra Dhola, Aao Ni, Padharo Mhare Desh…
Padharo Mhare Desh.

‘केसरिया बालम’ पर आधारित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

लोकगीत ‘केसरिया बालम’ में राजपूत योद्धाओं को केसरिया बालम कहा गया है।

लोकगीत ‘केसरिया बालम’ भारत देश के राजस्थान राज्य व उसके बलिदानी वीर  राजपूत योद्धाओं का प्रतिनिधित्व करता है।

लोकगीत ‘केसरिया बालम’ गायिका अल्लाह जिलाई बाई की रचना है।

लोकगायिका अल्लाह जिलाई बाई ने ‘केसरिया बालम’ को सर्वप्रथम महाराज गंगा सिंह जी के दरबार में प्रस्तुत किया था।

Frequently asked questions (FAQ's) based on ‘Kesariya Balam’

Rajput warriors have been called Kesaria Balam in the folk song ‘Kesaria Balam’.

The folk song ‘Kesariya Balam’ represents the Rajasthan state of India and its valiant brave Rajput warriors.

The folk song ‘Kesariya Balam’ is a composition of singer Allah Jilai Bai.

The folk singer Allah Jilai Bai first presented ‘Kesariya Balam’ in the court of Maharaj Ganga Singh ji.

Related links

Other popular rhymes

Other related keywords and search's

Spread the education