RhymesLyrics

Modern Rhymes in Hindi | आधुनिक एवं नए

Akhbar
Akhbar | अख़बार

Akhbar : बालगीत ‘अख़बार’ बच्चों को समाचार-पत्र से अवगत कराता है और उससे मिलने वाले लाभों और जानकारियों के बारे में जानने को प्रोत्साहित करता है।बालगीत ‘अख़बार’ बच्चों को प्रेरित करता है कि यदि हम प्रतिदिन नियमित रुप से अख़बार पढ़ने की आदत बनाते है तो यह हमारे लिए काफी लाभदायक हो सकता है। यह बच्चों में पढ़ने की आदत को विकसित करता है, उनके प्रभाव में सुधार करता है और उन्हें बाहर के बारे में सभी जानकारी उपलब्ध कराता है।

Ek Ek
Ek-Ek | एक-एक

Ek-Ek : बालगीत ‘एक-एक’ में मेहनत व लगन के महत्व को दर्शाते हुए बच्चों को यह समझाने की कोशिश की गई है कि अगर हम कोई भी काम लगन और संयम से करे तो वह पूरा अवश्य होता है। इस बालगीत में यह बताया गया है की हमें हमेशा अपनी मेहनत और लगन पर भरोसा होना चाहिए तथा जिस प्रकार धीरे-धीरे एक बीज पहले छोटे से पौधे में परिवर्तित होता है और फिर एक घने वृक्ष में परिवर्तित हो जाता है।

Aaloo Bola
Aaloo Bola | आलू बोला

Aaloo Bola : बालगीत ‘आलू बोला’ बच्चों को अलग अलग प्रकार की सब्जियों के महत्व को समझाता है कि कैसे हमारे भोजन में सब्जियों का प्रमुख स्थान हैं जो हमें प्रोटीन, विटामिन, आईरन और खनिजों की भरपूर मात्रा उपलब्ध कराती हैं जिससे हमारे शरीर का संतुलित विकास एवं वृद्धि होती हैं।

Char Naukar
Char Naukar | चार नौकर

Char Naukar : बालगीत ‘चार नौकर’ गीत में हमारे शरीर के महत्व को दर्शाने की कोशिश करते हुए हमारे शरीर के दो बहुत ही प्रमुख अंगो के बारे में समझाया गया है। इस गीत में बताया गया है की किस तरह हमारे हाथ व पैर हमारे सभी दैनिक कार्यो को करने मे हमारी मदद करते है और कभी भी उसके बदले हमसे अपनी कोई इच्छा प्रगट नहीं करते हैं। इस बालगीत की सुंदर पंक्तियों में हमारे हाथ और पैरो की विशेषता बताई गई हैं कि किस तरह वह हमेशा हमारे कामों को करने के लिए तैयार रहते हैं व हमें आत्मनिर्भर बनाते हैं।

Dhobi Aaya
Dhobi Aaya | धोबी आया

Dhobi Aaya : ‘धोबी आया’ एक बहुत अच्छा बालगीत है जिसकी मदद से छोटे बच्चे बड़े मज़ेदार तरीके से गिनती सीख सकते हैं। इस गीत में एक धोबी के बारे में बात की गयी है कि कैसे वो बार बार अपने साथ अलग अलग मात्रा में कपड़े लेकर आता है, जिसके माध्यम से बच्चे बड़ी आसानी से गिनतियों को क्रम में दोहराते हैं।

Baadal Raja
Baadal Raja | बादल राजा

Baadal Raja : बालगीत ‘बादल राजा’ बच्चों को बादलों के बारे में बताने और आगे जानने के लिए उत्सुक करने का एक सार्थक प्रयास है।गर्मी के मौसम में जब हर तरफ सब झुलस रहे होते है तब आसमान में वर्षा के बादलों के दिखने से हर कोई राहत की सांस लेता है। बालगीत ‘बादल राजा’ तेज गर्मी की उसी विभीषिका से सबको बचाने के लिए बादलों से एक पुकार को प्रदर्शित करता है।

Ginti
Ginti | गिनती

Ginti : बालगीत ‘गिनती’ बच्चों को हिंदी भाषा में गिनतियों को याद करने का एक शानदार मौका प्रदान करता है जिसके माध्यम से छोटे बच्चें बड़ी आसानी से गाते हुए गिनतियों को उनके क्रम में याद कर सकतें हैं। इस गीत में पर्युक्त दोनों साप्ताहिक दिनों शनिवार और रविवार से बच्चों को वैसे भी थोड़ा ख़ास लगाव होता है क्योंकि ज्यादातर छोटे बच्चों की इन दिनों छुट्टी होती हैं।

Meri Pyari Gaiya
Meri Pyari Gaiya | मेरी प्यारी गैया

Meri Pyari Gaiya : बालगीत ‘मेरी प्यारी गैया’ बच्चों में गाय के प्रति लगाव को बताने के साथ – साथ उसकी उपयोगिता व समाज में उसके लोकप्रिय स्थान से भी अवगत कराता है। भारतीय परिवारों में गाय को मां का दर्जा दिया जाता है तथा प्यार व सम्मान से उसे ‘गाय माता’ के नाम से पुकारने के साथ – साथ बड़े ही चाव से घरों में पाला जाता है, कुछ परिवारों में तो गाय की पूजा भी की जाती है इसलिए बच्चों का भी गाय के प्रति लगाव और भी बढ़ जाता है।गाय के छोटे चंचल बच्चे बच्चों को बहुत अच्छे लगते हैं, उनके साथ खेलना बच्चों को बहुत पसंद होता है।

Aayi Holi
Aayi Holi | आई होली

Aayi Holi : बालगीत ‘आई होली’ बच्चों को भारत के प्रसिद्ध त्योंहार होली के बारे में बताता है जो सभी बच्चो का पसंदीदा त्यौहार भी है।। रंगों का त्योंहार होली अपने साथ काफ़ी सकारात्मक ऊर्जा लेकर आता है और उसे आसमान में बिखरे गुलाल की तरह चारों ओर के वातावरण में बिखेर देता है।होली पर सभी आयु-वर्ग के लोग बहुत अधिक उत्साहित होते हैं और सभी छोटा-बड़ा, ऊँच- नीच, अमीर-गरीब का भेद भुलाकर आनंद से एक-दूसरे के साथ होली में झूमते नज़र आते हैं।

Garmi Aayi
Garmi Aayi | गर्मी आई

Garmi Aayi : बालगीत ‘गर्मी आई’ छोटे बच्चों को गर्मी के मौसम में पंखे की उपयोगिता के बारे में बताता है। सभी घरों में पंखे अवश्य होते हैं, पंखा हम सभी को गर्मी से राहत प्रदान करता है।पंखे का उपयोग करने से घर में मच्छर भी कम आते है, कुछ पंखे ऐसे भी होते है जो घर की अशुद्ध हवा को बाहर निकालने का काम करते है जिससे घर का वातावरण साफ़ रहता है।

Suraj
Suraj | सूरज

Suraj : बालगीत ‘सूरज’ में बच्चों को सूरज के महत्व को समझाया गया है की किस प्रकार सूरज अपने नियत समय पर आकर अपनी किरणों को फैलाकर संसार का अंधकार मिटा सभी ओर उजाला फैलाता है और फिर शाम को अपनी किरणों को धीरे-धीरे समेट कर छिप जाता है। शाम के समय जब सूरज अपनी किरणों को समेटता है तो जाते –जाते भी अपने आस –पास लाल रंग की लालिमा को चारों ओर बिखेरता हुआ जाता है जो एक बहुत ही मनमोहक दृश्य होता है जिसे देख कर लोग बहुत शांति व ख़ुशी महसूस करते हैं।

Titli Udi Ud Na Saki | तितली उड़ी उड़ ना सकी

Titli Udi Ud Na Saki : हिंदी बाल गीत ‘तितली उड़ी उड़ ना सकी’ छोटे बच्चों को रिझाने वाला एक बहुत ही सुंदर बालगीत है, इसमें बच्चों को एक छोटी सी सुंदर तितली के साथ हुई घटना के बारे में बड़े ही मजेदार तरीके से बताया गया है। तितली सभी बच्चों को बहुत ही आकर्षित करती हैं, सुंदर फूलों पर उसका बार बार आकर मंडराना छोटे बच्चों को अनायास ही अपनी तरफ खींच लेता है। तितली के मनमोहक सुंदर पंखों को देखकर बच्चे बहुत खुश होते हैं व बार-बार उसे पकड़ने की चेष्टा करते हैं, बच्चों की यही जिज्ञासा उन्हें इस बालगीत से भी जोड़ देती है जिससे वे तितली से जुड़े इस बालगीत को भी बड़े ही चाव से सुनते और गाते हैं।

Chuhiya Rani
Chuhiya Rani | चुहिया रानी

Chuhiya Rani : बालगीत ‘चुहिया रानी’ बच्चों का बहुत ही मनभावन गीत है, इस गीत को बच्चे बहुत ही प्यार से गाते हैं। इस गीत में यह दर्शाने की कोशिश की गई कि कैसे एक छोटी सी चुहिया महारानी की तरह घर में इधर-उधर घूमते हुए अपना समय बिताती है और फिर भूख लगने पर किस तरह घर की कोई भी चीज कुतर कर अपना पेट भरती है।

Bandar Ki Sasural
Bandar ki Sasural | बन्दर की ससुराल

Bandar ki Sasural : बालगीत ‘बंदर की ससुराल’ बच्चों का बहुत ही लोकप्रिय गीत है जिसे बच्चे बहुत ही खुश होकर गाना पसंद करते हैं। इस गीत में एक बंदर के नटखट एवं चंचल स्वभाव को दर्शाया गया है कि कैसे बंदर द्वारा की गयी नटखट भाव भंगिमाओ की नकल उतार कर छोटे बच्चे अपना मन बहलाते है। यह बालगीत बंदर और बंदरिया के अंतरिम प्रेम को भी हास्य व सहजता से दिखाने का एक सुंदर व सफल प्रयास है।

Lal Tamatar
Lal Tamatar | लाल टमाटर

Lal Tamatar : बालगीत ‘लाल टमाटर’ बच्चो को टमाटर खाने के लिए प्रोत्साहित करने का एक सराहनीय पर्यास है, इस गीत में बच्चों को बड़े ही सरल ढंग से समझाया गया है की टमाटर किस तरह अनेको प्रकार से हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभदायक होता है।बच्चे बहुत नटखट होते है इसलिए बच्चो को समझाने के लिए टमाटर के लाल रंग को दर्शाते हुए कहा गया है की टमाटर खाने से बच्चो के गाल लाल हो जाते है जो बहुत ही मनमोहक लगते है यही नहीं टमाटर के और भी गुण बताये गए है जैसे की टमाटर हमारे शरीर में खून की वृधि भी करता है।

Hathi Raja
Hathi Raja | हाथी राजा

Hathi Raja : बालगीत ‘हाथी राजा’ बच्चों को इस संसार के सबसे विशाल काया वाले जानवर के बारे में बताता है कि धरती का यह सबसे विशाल जानवर हाथी सभी बच्चों व बड़ों का पसंदीदा जानवर होता है जिसका अपनी विशालकाय काया के साथ अपनी सूंड को हिला-हिलाकर चलना सबका मन मोह लेता है।छोटे बच्चों को रिझाने के लिए इस बालगीत की अंतिम कुछ पंक्तियों में हास्य को भी प्रस्तुत किया गया है जिसमें बच्चें हाथी राजा को अपने घर पर आकर उनके पसंदीदा भोजन मीठे – मीठे गन्ने खाने को आमंत्रित कर रहे हैं।

Natkhat Chuha
Natkhat Chuha | नटखट चूहा

Natkhat Chuha : बालगीत ‘नटखट चूहा’ बच्चों के बहुत ही लोकप्रिय गीतों में से एक है जिसे वे बड़े ही मन से गाते व सुनाते हैं। इस गीत में एक चूहे के नटखट स्वभाव को दिखाते हुए यह दिखाने की कोशिश की गई है कि चूहा स्वाभाव से बहुत ही चंचल व शरारती होता है तथा घर में इधर-उधर कूदता हुआ बहुत ही नटखट प्रतीक होता है। इस गीत में चूहे को बच्चों से जोड़ते हुए दर्शाया गया है कि कैसे चूहे बच्चों की तरह घर में कूदते, भागते शोर मचाते हुए बच्चो बड़े प्यारे लगते है। किस तरह से घर में इधर -उधर भाग कर तथा अपनी पूंछ को हिला कर बच्चों के मन को भाते हैं।

Gandhi
Gandhi Rashtra Pita | गाँधी राष्ट्र पिता

Gandhi Rashtra Pita : ‘गाँधी जी’ एक ऐसा नाम जिसे शायद ही कोई बच्चा होगा जो न जनता हो, भारत के इतिहास से एक ऐसा नाम जिसके बारे में लोग बीते हुए कल से लेकर वर्तमान तक ना सिर्फ बातें करते थे बल्कि उनके आदर्शों का अनुसरण भी करते हैं।गाँधी जी ने अंग्रेजो के खिलाफ अपने अहिंसा के आन्दोलन को पूरे देश में फैला दिया, सभी भारतवासियों को एकजुट करके अंग्रेजो के खिलाफ एक ऐसी शक्ति के रूप में खड़े हो गए जिसके आगे आखिरकार अंग्रेजो को झुकना पड़ा और फिर वह दिन भी आ गया जब अंग्रेजो को भारतवासियों के आगे झुकना पड़ा और हमारा देश अंग्रेजो के चंगुल से आज़ाद हो गया।

Meri Gudiya
Meri Gudiya | मेरी गुड़िया

Meri Gudiya : बालगीत ‘मेरी गुड़िया’ में एक छोटी बच्ची का अपनी गुड़िया के प्रति प्रेम दर्शाया गया है, इस गीत में बताया गया है कि वह छोटी बच्ची अपना पूरा दिन उस गुड़िया के साथ खेलते हुए किस तरह हँसी ख़ुशी बिताती है।इस गीत में बच्ची के लगाव को दिखाते हुए उस बच्ची के कोमल मन की कुछ बातो को बड़े ही प्रेम से प्रस्तुत किया गया है की किस तरह वह बच्ची अपनी गुड़िया को कपड़े पहनाती है, वह उस गुड़िया को अपने साथ ही सुलाती है। वह छोटी सी गुड़िया बिलकुल उसकी सहेली की तरह ही उसके साथ रहती है, जो कुछ उस बच्ची के मन की बाते होती है उन्हें वह बहुत ही प्यार से सुनती है।

Ginti Geet
Ginti Geet | गिनती गीत

Ginti Geet : बालगीत ‘गिनती गीत’ में बड़े ही प्यार से बच्चों को एक से दस तक की गिनतियाँ सिखाने का प्रयास किया गया है। इस गीत में यह ध्यान रखा गया है और यह कोशिश की गई है कि बच्चे खेल खेल में गीत को याद करें और उन्हें गीत के माध्यम से बड़ी ही आसानी से गिनती भी याद हो जाये। इस गीत में बच्चों को गिनती के साथ-साथ कुछ अन्य रोचक एवं जरुरी बातें भी समझाई गई हैं जो छोटी उम्र के सभी बच्चों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण हैं।

'आधुनिक एवं नए बालगीत' पर आधारित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

उत्तर : आधुनिक एवं नए बालगीत जो बच्चों को आजकल की नई सोच से अवगत कराते हैं, इन नए     बालगीतों को बच्चों की आज कल की आधुनिक सोच व ज़रुरतो को ध्यान में रख कर लिखा जाता है।

उत्तर : आधुनिक एवं नए बालगीत बदलते समय के साथ समाज, शिक्षा व रहन-सहन में आने वाले परिवर्तनों को अपने में समेटे हुए उन्हें सरल व सुगम रूप में छोटे बच्चों तक पहुचाने का एक सशक्त माध्यम हैं।

उत्तर : आधुनिक एवं नए बालगीत एक जाग्रत समाज का चेहरा है जो आधुनिक सोच से हमें परिचित कराते हैं, आधुनिक एवं नए बालगीत की पंक्तियों में बच्चों को बदलती सामाजिक धारणाओं का पता चलता हैं इसलिए इन गीतों को नए व उन्नत समाज का चेहरा भी कहा जा सकता है।

उत्तर : आधुनिक एवं नए बालगीत बच्चों को समाज में आने वाले परिवर्तनों से परिचित कराते हैं, बदलते समय के साथ बदलती आधुनिक सोच से अवगत कराते हैं। बच्चे भी उन बालगीतों की पंक्तियों को अपने आस-पास से जोड़ते व समझते हुए बहुत ही प्रसन्नता का अनुभव करते हैं और इस प्रकार सुनते-सुनते प्रतिउत्तर देना व याद करना शुरू कर देते है जो उनको फुर्ती से भर देता है।

Related links

Other popular rhymes

Other related keywords and search's