RhymesLyrics
Mor

Mor | मोर

बालगीत मोर बच्चों को भारत के राष्ट्रीय पक्षी मोर के बारे में अवगत कराती है। वर्षा ऋतु में आसमान में काली घटा के छाने पर जब यह पक्षी अपने पंख फैला कर नाचता है, तो ऐसा लगता है कि मानो इसने सुंदर रंगों से सजी शाही पोशाक पहन रखी हो।

मोर को पक्षियों का राजा कहा जाता है, क्योंकि मोर के सिर पर जो कलंगी होती है वह एक मुकुट की तरह प्रतीत होती है। खुशी में घूमघूम कर जब मोर अपने लुभावने पंखो को फ़ैलाकर नृत्य करता है तो तो देखने वाले उनकी अनुपम छटा को देखकर मंत्रमुग्‍ध हो जाते हैं। 

 

 मोर बालगीत के बोल

नाच मोर का सब को भाता,

जब वह पंखो को फैलाता,

कूहकूह का शोर मचाता,

घूमघूम कर नाच दिखाता

 

‘Mor’ Lyrics in English

 Naach mor ka sab ko bhaata,

Jab vah pankho ko phailaata,

Kooh- kooh ka shor machaata,

Ghoom-ghoom kar naach dikhaata

 

‘Mor’ English Translation

Everyone loves dancing peacock,

When he spread the wings,

Make noise,

Dancing around