RhymesLyrics

Home >> Rhymes for kids >> Hindi Rhymes for kids

Char Naukar

Char Naukar | चार नौकर

बालगीत चार नौकर गीत में हमारे शरीर के महत्व को दर्शाने की कोशिश करते हुए हमारे शरीर के दो बहुत ही प्रमुख अंगो के बारे में समझाया गया है। इस गीत में बताया गया है की किस तरह हमारे हाथ व पैर हमारे सभी दैनिक कार्यो को करने में हमारी मदद करते हैं और कभी भी उसके बदले हमसे अपनी कोई इच्छा प्रगट नहीं करते हैं।

इस प्रकार वह हमारे सच्चे साथी होते है जो हमारे मन की सुनते है और मन की इच्छा के अनुसार हमारे बहुत से कामों को करने में हमारी सहायता करते हैं । इस बालगीत की सुंदर पंक्तियों में हमारे हाथ और पैरो की विशेषता बताई गई हैं कि किस तरह वह हमेशा हमारे कामों को करने के लिए तैयार रहते हैं व हमें आत्मनिर्भर बनाते हैं

 

‘चार नौकर बालगीत के बोल

मेरे पास हैं नौकर चार,

हरदम रहते हैं तैयार।

दो है मेरे हाथ,

देते मेरा हरदम साथ।

दो हैं मेरे पैर,

मुझे कराते हैं सैर।

ना पीते हैं ना खाते हैं,

जहाँ कहूं ले जाते हैं।

  

Char Naukar’ Lyrics in English

Mere Pass hain naukar char,
Hardam dete mera sath.
Do hain mere hath,
Dete mera hardam sath.
Do hain mere pair,
Mujhe karate hai sair.
Na pite, na khate hain,
Jahan kahu le jate hain.

 

Char Naukar’ English Translation

I have four servants,

Always ready for me

Two are my hand

Always ready to do my work

Other two are my legs

Always take me for walk

Neither drinks nor eat,

Take to me wherever I want.

 

'चार नौकर' पर आधारित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

उत्तर : बालगीत में लेखक अपने शरीर के हाथ-पैरो के बारे में बात कर रहा है।

उत्तर : बालगीत में लेखक अपने हाथ-पैरो को अपना नौकर बता रहा है।

उत्तर : लेखक ने बालगीत में कहा है कि ये चारो नौकर ना खाते, ना पीते हैं।

उत्तर : बालगीत में लेखक बता रहा है कि हाथ पैर कभी आराम नहीं करते और मेरी सभी कामो में मदद करते है।

Frequently asked questions (FAQ's) based on 'Char Naukar'

Answer : In the rhyme the author is talking about the hand and foot of his body.

Answer : In the rhyme the author is describing his hand and foot as his servant.

Answer : Poet has said in the poem that these four servants do not eat or drink and do all the work.

Answer : In the rhyme the author is telling that the arms never rest and help me in all my work.

Related links

Categories

Other popular rhymes

Other related keywords and search's